From Nirog: Health Information in Hindi

Cancer: Cancer in India | भारत में कैंसर

भारत में रोग से मृत्यु का अनुमानित प्रतिशत

Projections from WHO for Mortality in India
Projections from WHO for Mortality in India

उपर दिये गये चित्र में भारत में बीमारी से मृत्यु के बारे में बताया गया है।

यह डाटा, वर्ल्ड हेल्थ आरगेनाइजेशन (World health Organization, http://www.who.int ) से लिया गया है। यह डाटा साल 2002 का है। उस पर आधारित यह साल 2005 और साल 2030 के लिये अनुमान लगाया गया था कि भारत में विभिन्न बीमारीयों से मृत्यु का क्या प्रतिशत होगा।
यह डाटा, वर्ल्ड हेल्थ आरगेनाइजेशन (World health Organization, http://www.who.int ) से लिया गया है। यह डाटा साल 2002 का है। उस पर आधारित यह साल 2005 और साल 2030 के लिये अनुमान लगाया गया था कि भारत में विभिन्न बीमारीयों से मृत्यु का क्या प्रतिशत होगा।
संक्षेप में, अगले 25 साल में, भारत में संक्रमित बीमारी कम होंगे (दूसरे नम्बर पर), और बाकीं सभी अन्य बीमारी से मृत्यु बढेंगे। खास करके दिल और नसों का बीमारी या कार्डियो-वेस्कुलर डिसोरडर (Cardio-vascular disorder), मृत्यु का सबसे बड़ा कारण बन जायेगा। अगले 25 साल में, भारत में कैंसर से भी मृत्यु, डेढ गुना अधिक हो जायेगा।
“अन्य दीर्घकालिक रोग” उन रोगों को कहते हैं, जो कि लम्बे समय तक रहता है, जैसे कि डायबिटीज़, ग्रंथि रोग, दिमागी बीमारी, सांस की बीमारी, जनांग की बीमारी, चर्म रोग, मांस-पेशियों की बीमारी, जन्म से ही बच्चे में दोष, मुंह में रोग और अन्य बीमारी।

कैंसर किस अंग में होता है।

कैंसर किसी भी अंग में हो सकता है। यह निर्भर करता है आपके खाने-पीने और रहने के तौर-तरीके से। इसके अलावा कुछ कैंसर किसके घर में खानदानी होता है, मतलब कि पिता या मां या उनके पुर्वज के तरफ से आया होता है। अन्य कुछ बातें जो कि कैंसर होने के लिये जरूरी होता है जैसे कि जाति, समुदाय, रंग, लिंग, व्यायाम करना, दवा, और अन्य कारण। यहां पर भारतीय महिलाओं और पुरुषओं मे कैंसर के नये मरीज़ के बारे में बताया गया है।

भारत में महिलाओं में कौन – कौन से कैंसर होते हैं?

2005 Projection of Cancer in Indian Women WHO 2002
2005 Projection of Cancer in Indian Women, WHO, 2002
संकोच और शर्म के कारण, भारत में, उपर लिखे कैंसर के बारे में बात नहीं किया जाता है। यहां तक कि सामान्य महिला को सरविक्स किसे कहते हैं, यह पता भी नहीं होता है। और सरविक्स का कैंसर, हर साल, सबसे अधिक नये मरीज़ करता है और सबसे अधिक मौत का कारण बनता है। जब तक सरविक्स के कैंसर के लक्षण के प्रकट होने पर डाक्टर के पास जाते हैं, तब तक आधिकांश समय बहुत देर हो जाता है। सरविक्स का कैंसर पर और जानने के लिये यहां पर क्लिक करें।

भारत में पुरुषों में कौन – कौन से कैंसर होते हैं?

2005 Projection of Cancer in Indian Men WHO 2002
2005 Projection of Cancer in Indian Men, WHO, 2002
अत्याधिक सिग्रेट, बीड़ी, हुक्का और अन्य तम्बाकू के कारण फेफड़ा और सांस का नली का कैंसर सबसे ज्यादा होता है। वैसे ही हमेशा मुंह में पान, सुपारी, गुटख़ा और अनगिनत प्रकार के जर्दा और खैनी से मुंह और गला का कैंसर दूसरे स्थान पर हैं। कभी – कभी आप ये सब नहीं भी लेते होंगे, लेकिन यह कैंसर हो सकता है। जरूरी बात यह है कि सर्वप्रथम, ये व्यस्न नहीं लेना चाहिये और अगर कोई नया बदलाव दिखाई दे या महसूस करें, तो तुरंत किसी अच्छे डाक्टर से दिखलाना चाहिये।
Retrieved from http://nirog.info/index.php?n=Cancer.Cancer-India
Page last modified on January 10, 2010, at 01:16 AM EST