From Nirog: Health Information in Hindi

Infection: Dengue । डेंगू या डेंगी

संक्षिप्त वर्णन

Female Aedes aegypti mosquito
डेंगू फैलाने वाला मच्छर

कारण

डेंगू वायरस चार प्रकार के होते हैं, जैसे कि डेन-1, डेन-2, डेन-3 और डेन-4 (DEN-1, DEN-2, DEN-3, DEN-4)। हर साल, दुनिया भर में करीब 10 करोड़ लोग डेंगू बीमारी से संक्रमित होते हैं।

प्रसार

डेंगू के वायरस, मच्छर के काटने से फैलता है। अगर किसी को डेंगू का बीमारी है, और कोई मच्छर उस मरीज से खून पीता है, तो मच्छर में डेंगू वायरस युक्त खून चला जाता है। फिर जब किसी स्वस्थ व्यक्ति को यह मच्छर काटता है, तो डेंगू का वायरस उसमें चला जाता है। मच्छर को “वेक्टर” (vector) कहते हैं। और इस प्रकार से फैलनेवाले बीमारी को “वेक्टर बोर्न डिसईज़” (vector borne disease) कहते हैं।
डेंगू सभी मच्छर से नहीं फैलता है। यह केवल कुछ जाति के मच्छर से फैलता है। एक प्रकार का मच्छर, जिसका नाम है, “एडिस एजिपटाई” (Aedes aegypti) इस बीमारी का संक्रमण कर सकता है।
Eggs from Aedes aegypti mosquito
गंदे पानी में पलते हुये, डेंगू बुखार फैलाने वाला मच्छर के अंडे

बचाव

डेंगू बीमारी एक वायरस से होता है, किंतु यह बीमारी एक मच्छर द्वारा फैलता है। मच्छर पानी में अंडा देकर, और मच्छर फैलाते हैं। यह जीवनचक्र करीब 1 हफ्ते में पूरा होता है। इसका मतलब है कि, अगर कोई रोकने का उपाय न किया गया तो हर हफ्ता, मच्छर का तादाद दौगुना होगा। इससे मच्छर से फैलने वाले बीमारी भी अधिक होंगे। तो डेंगू को रोकने के लिये आपको अपने घर और मोहल्ले में मच्छर को कम करना होगा।

मच्छर से बचने के लिये क्या कर सकते हैं?

लक्षण

डेंगू का एक से अधिक लक्षण होता है। अगर आपको नीचे लिखे हुये लक्षण में से कुछ भी है, जो साधारण दवा से ठीक नहीं हो रहा है, तो डाक्टर से दिखलाने जायें।

इलाज़

डेंगू का शंका होने पर, अपने डाक्टर से दिखलायें। कुछ दवा इस प्रकार से है -

लक्ष्य

अगर आप डेंगू के मरीज़ है, तो आप को दो लक्ष्य होना चाहिये। पहला कि आप जल्द से जल्द स्वस्थ हो सकें और दूसरा कि आप दूसरों को यह बीमारी न फैलायें। अपने लिये डाक्टर द्वारा बताये गये इलाज का पालन करें। दूसरों को यह बीमारी न फैलाने के लिये आप कुछ बातों का ध्यान रख सकते हैं -

डेंगू हेमोर्हेजिक फीवर

जब यह बीमारी गंभीर हो जाता है, तो मरीज में विभिन्न जगहों से खून बहने लगता है | यह जानलेवा भी हो सकता है | इस स्थिती को डेंगू हेमोर्हेजिक फीवर कहते हैं| इसका इलाज, अस्पताल में तुरंत होना चाहिये|
Retrieved from http://nirog.info/index.php?n=Infection.Dengue
Page last modified on January 05, 2010, at 03:47 AM EST