From Nirog: Health Information in Hindi

Infection: Swine Flu Prevention | स्वाईन फ्लू से बचाव

Hand washing
Hand Washing © CDC

स्वाईन फ्लू से बचाव के लिए हमेशा हाथ, साबुन और पानी से, कम से कम 15 से 20 सेकंड तक धोयें, खास करके हाथों पर छींकने पर या खांसने पर।

स्वाईन फ्लू किसको कहते हैं?

स्वाईन फ्लू एक तरह का नया बीमारी है, जो कि साधारण सर्दी, खांसी और बुखार जैसे लक्षण देता है, लेकिन कभी कभार जानलेवा भी हो सकता है।

स्वाईन फ्लू से कैसे बच सकते हैं?

अभी तक स्वाईन फ्लू के लिये कोई दवा नहीं है। लेकिन आप नीचे लिखे हुये बातों को करके, आप अपने और अपने घरवालों को स्वाईन फ्लू से बचा सकते हैं।

स्वास्थ्य विभाग के लोगों को बचाव के लिये और क्या करना चाहिये?

डाक्टर के पास कब जाना चहिये?

स्वाईन फ्लू के लिये क्या दवा हैं?

स्वाईन फ्लू का वायरस, किसी वस्तु पर कब तक जिंदा रहता है?

स्वाईन फ्लू, मरीज के छूने से, किसी भी चीज पर हो सकता है। इन वस्तुओं पर किसी यह वायरस करीब 2 से 8 घंटे तक जिंदा रह सकता है। इस दौरान, अगर कोई व्यक्ति उस वस्तु को छू कर, बगैर हाथ धोये हुये, अपने नाक, मुंह या आंख को छूता है; तो उसे स्वाईन फ्लू हो सकता है। किसी वस्तु का उदाहरण है, मेज, दरवाजे का कुंडा, फोन, कंप्युटर का कीबोर्ड, कलम, खिलौना, बाथरूम और रसोई में दिवार, ताक और नल पर।

स्वाईन फ्लू का वायरस को कैसे मार सकते हैं?

स्वाईन फ्लू का वायरस अति संवेदनशील होता है। किसी भी सफाई वाले पदार्थ, जिसमें कि क्लोरीन (chlorine), आयोडीन (iodine), साबुन (soap) या अल्कोहोल (alcohol) हो, वो इस वायरस का सफाया कर सकता है। इसके अलावा, 75 से 100 डिग्री सेंटीग्रेड के गर्मी से भी इस वायरस का सफाया हो सकता है। ये पदार्थ से आप उपर लिखे हुये वस्तुओं का सफाई कर सकते हैं।

मरीज के कपड़े और बर्तन को कैसे धोना चाहिये?

सन्दर्भ

Retrieved from http://nirog.info/index.php?n=Infection.Flu-H1N1-Prevention
Page last modified on January 05, 2010, at 04:34 AM EST