From Nirog: Health Information in Hindi

Labs: CD4 Cells | सि डी 4 सेल

सि डी 4 सेल (CD4 cells) कया है?

खून में सफेद रक्त कोशिका (व्हाईट ब्लड सेल, White Blood Cell, WBC) बीमारीयों से बचाता है। ये पांच प्रकार के होते हैं । इसमें से लिम्फोसाईट (lymphocyte) एक प्रकार है। देखें संपूर्ण रक्त गणना (सि बी सि) (Complete Blood Count, CBC) कया है?
लिम्फोसाईट दो तरह के होते हैं – टी सेल (T cell) और बी सेल (B cell)। एच आइ वी (HIV) में टी सेल (T cell) नष्ट हो जाते हैं, जो कि जानलेवा होता है। बी सेल (B cell), आपके शरीर के रक्षा के लिये प्रोटिन बनाता है, जिसे ऎंटीबोडीज़ (antibodies) कहते हैं।
टी सेल (T cell) भी दो प्रकार के होते हैं। “सहायक या हेल्पर टी सेल या सि डी 4 सेल (CD4 cell, T Helper cell)” और “निरोधक या सि डी 8 सेल या सप्प्रेसर टी सेल या किलर सेल (CD8 cell, T suppressor cell, killer cell)”। सि डी 4 सेल किसी भी संक्रमित बीमारी से बचाने के लिय तत्पर रहता है। सि डी 8 सेल किसी भी क्रिया को खत्म करने में काम करता है – जैसे कि अत्यधिक प्रतिरक्षा, केंसर, वाइरस से संक्रमित कोशिका और अन्य। इन दोनों कोशिका के उपर स्थित प्रोटीन के पहचान से इनको सि डी 4 सेल या सि डी 8 सेल में विभाजित किया जा सकता है।

सि डी 4 सेल (CD4 cells) क्यों महत्वपूर्ण हैं?

जब एच आइ वी से किसी को संक्रमण होता है तो सबसे ज्यादा सि डी 4 सेल (CD4 cell, T Helper cell) में प्रवेश करता है। तब वाइरस उस सेल के साथ जुडकर, अपना तादाद बडाता है।
जब कभी किसी को लम्बे अरसे तक एच आइ वी से संक्रमण होता है, तो उसका सि डी 4 सेल काउंट या (CD4 cell count) या सि डी 4 सेल का गिनती कम हो जाता है। यह उस मरीज के शरीर के प्रतिरक्षा के कमजोरी का निशानी है। जिसका सि डी 4 सेल काउंट कम होता है, उसे अन्य संक्रमित बीमारीयों होने का संभावना बढ जाता है।
शरीर में लाखों प्रकार के सि डी 4 सेल होते हैं, जो विभिन्न किटाणुओं से बचाते हैं। हर सि डी 4 सेल का समूह, किसी एक संक्रमित बीमारी के किटाणु से बचने का शक्ति देता है। एच आइ वी से संक्रमित होने पर, अनेक प्रकार के सि डी 4 सेल के समूह लुप्त हो जाते हैं। इससे उनके द्वारा किटाणु से बचने का शक्ति भी समाप्त हो जाता है। तब मौकापरस्त संक्रमित बीमारी होने का खतरा होता है। मौकापरस्त संक्रमित बीमारी को ओपरचुनिस्टिक इनफेकशन (opportunistic infection, OI) कहते हैं। अंत में ये जानलेवा होते हैं।

सि डी 4 सेल किस पर निर्भर करता है?

सि डी 4 सेल का गिनती अनेक चीजों पर निर्भर करता है। यह एक ही दिन में उपर-नीचे हो सकता है। उस पर से शारीरिक थकान और मानसिक बोझ से भी सि डी 4 सेल के गिनती में बदलाव आ सकता है। इसी कारण से सि डी 4 सेल का गिनती हमेशा दिन के एक ही समय पर एक निश्चित जांच केन्द्र से खून जांच कराना चाहिये।
कोई भी संक्रमित बीमारी से सि डी 4 सेल का गिनती बढ जाता है। वैसे ही किसी बीमारी के टीका लेने पर सि डी 4 सेल का गिनती बढा रहता है। इसीलिय कोई संक्रमित बीमारी होने पर या टीका लेने पर, कुछ हफ्ता के बाद सि डी 4 सेल के गिनती का जांच कराना चाहिये।

जांच के रिपोर्ट में कया बताया जाता है?

  1. जांच के रिपोर्ट में बताया जाता है कि खून में कितना सि डी 4 सेल प्रति मिलीलीटर है। यह विवादस्प्रद है कि साधारण रूप में कितना सि डी 4 सेल होता है। यह माना जाता है कि सामान्य स्थिती में सि डी 4 सेल का गिनती 500 से 1600 के बीच में होता है, और सि डी 8 सेल का गिनती 375 से 1100 के बीच में होता है। एच आइ वी में यह गिनती गिर जाता है, कभी – कभार तो 0 के बराबर।
  2. दूसरा जांच होता है कि सि डी 8 सेल के अनुपात में सि डी 4 सेल कितना है (ratio)। यह “सि डी 4 सेल के गिनती” को “सि डी 8 सेल के गिनती” से भाग (divide) देने पर मिलता है। सामान्य स्थिती में यह भाग 0.9 से 1.9 के बीच में होता है। इसका मतलब है कि प्रति 1 सि डी 8 सेल पर 1 से 2 सि डी 4 सेल है। एच आइ वी में यह भाग बहुत नीचे गिर जाता है, मतलब कि प्रति 1 सि डी 4 सेल पर अनेक सि डी 8 सेल हैं।
  3. तीसरा जांच होता है सि डी 4 सेल का पुरे लिम्फोसाईट में प्रतिशत देखना। अगर जांच में दिया है सि डी 4 प्रतिशत (CD4%) = 34%, तो इसका अर्थ है कि 100 लिम्फोसाईट में 34 सि डी 4 सेल हैं। यह प्रतिशत, गिनती से अधिक संतुलित रहता है।

सामान्य रूप में यह 20 से 40% के बीच में रहता है। अगर सि डी 4 प्रतिशत 14% से कम है, तो यह शरीर के प्रतिरक्षा में गंभीर समस्या दर्शाता है। एक नये शोध के अनुसार सि डी 4 प्रतिशत, एच आइ वी के बीमारी का बढोतरी के बारे में बताता है।

इन गिनतीयों का कया मतलब है?

सि डी 8 सेल का गिनती के मतलब के बारे में अभी उतना पता नहीं है।

सि डी 4 सेल का गिनती, शरीर को संक्रमित बीमारीयों से बचानेवाला, शारीरिक प्रतिरक्षा, को नापने का सबसे बेहतरीन तरीक है। अगर यह घटता है, तो उतना एच आइ वी से नुकसान हुआ है। अमेरिका दिशा निदेश के अनुसार अगर किसी का सि डी 4 सेल गिनती 200 से कम है या सि डी 4 प्रतिशत 14% से कम है, तो उसे ऎडस (AIDS) है।

एच आइ वी का दवा कब चालू करें?

निम्नलिखित स्थिती में दवा शुरू करें -

  • सि डी 4 सेल का गिनती 350 से कम है
  • सि डी 4 सेल का गिनती 200 से कम है – कुछ डाक्टर इसे मानते हैं
  • सि डी 4 प्रतिशत 15% से कम है
  • सि डी 4 प्रतिशत 5% से कम है – इसमें इलाज से कोई खास फाय्दा नहीं होता है

मौकापरस्त संक्रमण का दवा कब चालू करें?

निम्नलिखित स्थिती में दवा शुरू करें -

  • सि डी 4 सेल का गिनती 200 से कम है – न्युमोसिसटिस न्युमोनिया (Pneumocystis pneumonia, PCP)
  • सि डी 4 सेल का गिनती 100 से कम है – टोक्सोप्लास्मोसिस (Toxoplasmosis), और क्रिप्टोकोकौसिस (Cryptococcosis)
  • सि डी 4 सेल का गिनती 75 से कम है – माईकोबेकटेरियम ऎवीयम कोमप्लेक्स (Mycobacterium avium complex)

सि डी 4 सेल का गिनती, शरीर को संक्रमित बीमारीयों से बचानेवाला, शारीरिक प्रतिरक्षा, को नापने का सबसे बेहतरीन तरीक है। अमेरिका दिशा निदेश के अनुसार सि डी 4 सेल का गिनती हर 3 से 4 महीनो पर कराना चाहिये।

Retrieved from http://nirog.info/index.php?n=Labs.CD4-Cell
Page last modified on February 08, 2010, at 03:32 AM EST