From Nirog: Health Information in Hindi

Nutrition: Energy | एनर्जी या उर्जा

उर्जा किसको कहते हैं?

उर्जा शक्ति को कहते हैं, जो जीवन का आधार है। हर जीवित प्राणी, अर्थात मनुष्य, पेड-पौधे, पशु-पक्षी और जीवाणु-किटाणू को जीवित रहने के लिये उर्जा चाहिये होता है। मनुष्य इस उर्जा को खाने से प्राप्त करते हैं। हर खाद्य प्दार्थ को पचाकर, उसको उर्जा में परिवर्तित किया जाता है।
शरीर में यह उर्जा दो प्रकार से इस्तेमाल होता है; पहला सामान्य दैनिक जीवन के लिये और दूसरा कोई भी कार्य करने के लिये।
सामान्य दैनिक जीवन का मतलब है कि आप लेटे हुय हैं जैसे कि सोते समय या आप बैठे हैं और कोई काम नहीं कर रहे हैं, जैसे कि टीवी (Television) देखते समय। शरीर को इस स्थिर स्थिती में भी निरंतर उर्जा चाहिये होता है शरीर में अनगिनत काम को पूरा करने के लिये, जैसे कि सांस लेना, दिल का धडकना, खाना पचाना, खून का प्रावाहित होना इत्यादि।
इस पर से आप कुछ भी करते हैं, जैसे कि चलना, खेलना, घर या बाहर का काम करना, पढाई करना, कमप्युटर पर दिमाग लगाना, बोझ उठाना, बच्चे को खिलाना, बगान में काम करना या कोई भी अन्य तरह का मेहनत करना, उसके लिये आप अतिरिक्त उर्जा खर्च करते हैं। इसके अलावा बीमारी में, जैसे कि बुखार में, अधिक उर्जा खर्च हो सकता है।

उपर लिखे दो तरह के उर्जा खर्चा यह निश्चित करता है कि आपके शरीर को प्रतीदिन कितना उर्जा चाहिये या शरीर का उर्जा डिमांड (Energy Demand) क्या है?

Energy Balance | एनर्जी बैलेंस या उर्जा का समीकरण क्या होता है?

एनर्जी बैलेंस सभी रोग-निरोग और शांति-अशांति का केंद्र-बिंदु है। हर चीज के लिये उर्जा चाहिये होता है (एनर्जी डिमांड या Energy Demand), जिसे खाना के रूप में पूरा किया जाता है (एनर्जी सप्पलाई या Energy Supply)। तो इसमें तीन तरह कि बातें हो सकती हैं।
  1. एनर्जी डिमांड के बराबर एनर्जी सप्पलाई है (Energy Demand = Energy Supply)। इसका मतलब है कि आप जितना उर्जा खाना से प्राप्त करते हैं, उतना उर्जा आपका शरीर सभी कर्यों में खर्चा करता है, और आपके शरीर पर कोई नया भार नहीं है। इससे आपका वजन समान (Constant Weight) रहेगा।
  2. एनर्जी डिमांड से अधिक एनर्जी सप्पलाई है (Energy Demand < Energy Supply)। इसका मतलब है कि आप जितना उर्जा खाना से प्राप्त करते हैं, उतना उर्जा आपका शरीर सभी कर्यों में खर्च नहीं कर पाता है, और आपके शरीर पर अधिक उर्जा का भार है। शरीर अधिक उर्जा को फेट में बदल कर जमा कर लेता है। इससे आपका वजन अधिक होगा (Weight Gain), और आपको मोटापा और उससे संबंधित बीमारीयों का संभावना बढ जायेगा।
  3. एनर्जी डिमांड के कम एनर्जी सप्पलाई है (Energy Demand > Energy Supply)। इसका मतलब है कि आप जितना उर्जा खाना से प्राप्त करते हैं, उतना उर्जा आपका शरीर के सभी कर्यों में खर्चा करने के लिये काफी नहीं है, और आपके शरीर पर कम उर्जा का भार है। शरीर उर्जा पूर्ती के लिये, पहले से जमा शरीर के फेट को खर्चा करता है। इससे आपका वजन घटेगा (Weight Loss), और आपका मोटापा भी घटेगा। दूसरे तरफ अगर आपको बुखार होता है, तो खाने के अरुचि से और अत्याधिक उर्जा खर्चा से वजन घट सकता है, जैसे कि तैपेदिक में वजन घटता है।

मुझे वजन घटाने के लिये क्या करना चहिये?

दो तरह से आप वजन घटा सकते हैं, और यह दोनों तरीका साथ में अपनाना चहिये जिससे कि एनर्जी डिमांड के कम एनर्जी सप्पलाई हो सके (Energy Demand > Energy Supply)। पहला कि खाना कम खायें और दूसरा कि शारीरिक मेहनत करें। इसके बारे में इस साईट पर अनेक जगह बताया गया है।

मुझे वजन बढाने के लिये क्या करना चाहिये?

यह उपर से विपरीत स्थिती है, और तभी उसका उल्टा करना होगा कि एनर्जी डिमांड से अधिक एनर्जी सप्पलाई हो सके (Energy Demand < Energy Supply)। इसका मतलब कि खाना अधिक खायें और हो सके तो शारीरिक मेहनत कम करें। इसके बारे में इस साईट पर अनेक जगह बताया गया है।

उर्जा को कैसे नापा जाता है?

उर्जा को नापने के लिये अनेक तरीके हैं। यहां पर एनर्जी के कुछ युनिट के बारे में जिक्र किया जा रहा है। उर्जा के कुछ युनिट हैं – कैलोरीज (Calories), वाट्स (Watts), मेट्स (Mets)।
Retrieved from http://nirog.info/index.php?n=Nutrition.Energy
Page last modified on January 25, 2010, at 02:52 AM EST